Monday, January 05, 2009

"अमेरिका, इज़राइल और भारत बदमाशी बंद करो"

लाहोर प्रेस क्लब के सामने अहले-हदीस यूथ फ़ोर्स का जलूस "फ़िलिस्तीनीयों के क़त्ल-ए-आम" पर धर्ना
धर्ना देने वाले बैनर पकड़े हैं जिसपर लिखा है "अमेरिका, इज़राइल और भारत बदमाशी बंद करो"।

लिंक Daily Waqt, Lahore (Pakistan)

5 टिप्पणियाँ:

Suresh Chiplunkar said...

यानी कि "बदमाशी" करने का हक सिर्फ़ "उन्हे" है, सो वे चाहते हैं कि बाकी लोग बदमाशियाँ बन्द करें, सिर्फ़ वे ही करेंगे… :) :)

Suresh Chandra Gupta said...

इसे कहते हैं, दूसरों को नसीहत, ख़ुद मियां फजीहत. बैसे जिस उद्देश्य से यह पोस्ट इस ब्लाग पर लिखी गई है, वह भी किसी बदमाशी से कम नहीं.

Admin said...

Suresh Chiplunkar दुनिया भर मे और ज़्यादातर भारत मे बदमाशी करने वाले सिर्फ पाकिस्तानी हैं। भारत मे अबतक जहां कहीं भी आतंक हुआ है इसके ज़िम्मेदार पाकिस्तानी और वहां की सरकार है। ये चित्र अपने ब्लॉग पर लगाने का मक़सद सिर्फ यही था कि एक बदमाश देश के बदमाश लोग भारत को बदमाश कह रहे हैं :) :)

Suresh Chandra Gupta आपकी टिप्पणी कुछ समझ नहीं आई कि इसपर क्या उत्तर लिखे। अच्छा है कि ऊपर Suresh Chiplunkar की टिप्पणी पर दिया हुआ उत्तर पढलें। अपना मक़सक यही था कि बदमाश लोग भारत को बदमाश कह रहे हैं, इसी लिए ये चित्र लगाया था :)

संजय बेंगाणी said...

अरे ये बेचारे दुनियाभर से सताए हुए लोग है. पता नहीं सबको क्या मिलता है, जो इन मासूमो को सताते रहते है. :)

Admin said...

संजय जी बिलकुल सही फरमाया आपने :)

Write in to your own language

1