Tuesday, March 03, 2009

जय हो: ए आर रहमान को सलाम





7 टिप्पणियाँ:

पंगेबाज said...

मेरे भाई आपका जोश काबिले तारीफ़ है पर श्रद्धांजली किसी के गोलोक वासी अर्थार्थ इस जहा मे ना रहने पर दी जाती है और रहमान साहब खुदा उन्हे लंबी उम्र दे अभी हम सब के बीच मे है कृपया इसे ठीक करले

Suresh Chiplunkar said...

पंगेबाज जी ने जो कहा है वह तुरन्त कर लें… रहमान साहब तो अभी लम्बी उम्र जियेंगे… शब्दों का थोड़ा सा खयाल रखिये भाई साहब…

Udan Tashtari said...

श्रृद्धांजलि?? क्या हुआ और कब? अच्छे खासे तो थे.

Gagagn Sharma, Kuchh Alag sa said...

भाई मेरे शब्दों के हेर-फेर से अर्थ का अनर्थ हो जाता है। रहमान दीर्घायु हों।

dhiru singh {धीरू सिंह} said...

shardhanjli ?????? aap theek to hae

SWAPN said...

bhai sab ki baat maan kar shirshak theek kar len.

Shuaib said...

एक तो मुझे ठीक से हिन्दी नहीं आती,
गूगल ट्रांसलेट मे अंग्रेज़ी से हिन्दी किया तो ऐसा शब्द "श्रद्धांजली" निकला
मैं आप सबसे माफ़ी चाहता हूं।
मुझे माफ करें।
और शब्द भी ठीक करदिया है "श्रद्धांजली" को "सलाम" मे बदल दिया है।

Write in to your own language

1