Tuesday, May 05, 2009

देवियो और सज्जनो - हाज़िर है नये ज़माने का टॉप

4 टिप्पणियाँ:

संजय बेंगाणी said...

:) सचमुच ऐसा हो सकता है?!!

Mired Mirage said...

वाह! क्या सदुपयोग है! जबर्दस्त !
घुघूती बासूती

लवली कुमारी / Lovely kumari said...

ha ha ha ..mast hai ji.

Anand said...

PAHLE AADMI PAHNEGA FIR AAURAT

Write in to your own language

1